बीजेपी तीसरी बार सत्ता में आती है तो आरएसएस पर प्रतिबंध लगा देगी – उद्धव ठाकरे

मुंबई : महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री और शिवसेना यूबीटी के चीफ उद्धव ठाकरे ने एक बार फिर बीजेपी पर हमला बोला है. इसके साथ उन्होंने दावा किया कि अगर भारतीय जनता पार्टी जीत दर्ज कर तीसरी बार सत्ता में आती है तो वो अपने वैचारिक पेरेंट्स राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) पर प्रतिबंध लगाने की योजना बना रही है. लोकसभा चुनाव प्रचार की अपनी आखिरी रैली में उद्धव ठाकरे ने ये दावा किया है.
इसके साथ ही उद्धव ठाकरे ने कहा कि चुनाव आयुक्त जो मोदी के सेवक की तरह काम कर रहे हैं उन्हें इंडिया गठबंधन के सत्ता में आने के बाद हटा दिया जाएगा, जिस तरह से उन्होंने शिवसेना को इस्तेमाल करने और फेंकने की कोशिश की. उसी तरह का खेल पीएम मोदी आरएसएस के साथ खेलेंगे.
वहीं शिवसेना यूबीटी चीफ उद्धव ठाकरे ने बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा की टिप्पणियों का जिक्र करते हुए कहा. दरअसल, एक समाचार पत्र के इंटरव्यू में जेपी नड्डा ने कहा था कि बीजेपी एक छोटी पार्टी थी और कम सक्षम थी, तब उसे आरएसएस की जरूरत थी. लेकिन, अब बीजेपी पार्टी बड़ी हो गई है, अधिक सक्षम हो गई है और खुद चल रही है. अब आरएसएस की जरूरत नहीं है. इसी बयान का जिक्र करते हुए उद्धव ठाकरे बीजेपी को घेरा है.
‘आरएसएस कार्यकर्ताओं के लिए एक बड़ा खतरा’
उद्धव ठाकरे ने दावा किया कि अगर बीजेपी इस बार सत्ता में आती है तो आरएसएस कार्यकर्ताओं के लिए एक बड़ा खतरा है, क्योंकि वे आरएसएस पर प्रतिबंध लगा देंगे. उन्होंने कहा तत्कालीन केंद्रीय गृह मंत्री सरदार वल्लभभाई पटेल ने भी आरएसएस पर प्रतिबंध लगा दिया था. जो लोग हमारी पार्टी को ‘नकली’ (नकली) कहते हैं, वे संघ को ‘नकली’ कहेंगे.
आरएसएस पर प्रतिबंध लगाने की योजना क्यों?
वहीं पूर्व मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तंज कसते हुए कहा कि पूरा आरएसएस कैडर आपको प्रधानमंत्री बनाने के लिए मेहनत करता है. उन्होंने पीएम मोदी से सवाल करते हुए कहा कि आप उस आरएसएस पर प्रतिबंध लगाने की योजना क्यों बना रहे हैं, जिसने आपको जन्म दिया और आपको राजनीतिक शक्ति दी. उन्होंने चुनाव आयोग पर कटाक्ष करते हुए कहा कि इंडिया गठबंधन की सरकार के सत्ता में आने के बाद हमें चुनाव आयुक्त को घर भेजना होगा, जो मोदी के सेवक की तरह काम कर रहे हैं. महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा जो कोई भी बीजेपी शासन में सेवक की तरह काम कर रहा है उसे बर्खास्त कर दिया जाएगा.